अमित शाह के दौरे से छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को लगा ये जोरदार झटका

0
34
अमित शाह से दौरे से छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को लगा ये जोरदार झटका

Chhattisgarh Congress President Ramdial Uike joined the BJP before the assembly elections (छत्तीसगढ़) : सूत्रों की माने तो इसी साल ‘छत्तीसगढ़’ में ‘विधानसभा चुनाव’ होने वाले हैं. जिसको लेकर सभी राजनितिक पार्टियां तैयारियां कर रही हैं. वहीं चुनाव से पहले ‘अमित शाह’ के छत्तीसगढ़ के दौरे के दूसरे दिन प्रदेश की राजनीति में बड़ा बड़ा उलटफेर देखने को मिला है.

अमित शाह से दौरे से छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को लगा ये जोरदार झटका

जानकारी के अनुसार राज्य कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष और पाली-तानाखार से विधायक ‘रामदयाल उइके’ ने कांग्रेस का साथ छोड़कर अब भाजपा में शामिल हो गए हैं. सूत्रों की माने तो वह पिछले 18 सालों से कांग्रेस से जुड़े हुए थे.

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने रामदयाल उइके को अपने हाथों पार्टी की सदस्यता ग्रहण की है, इस मौके पर राज्य के मुख्यमंत्री डॉक्टर ‘रमन सिंह’ और राज्य अध्यक्ष ‘धरमलाल कौशिक’ भी मौजूद थे.

अमित शाह से दौरे से छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को लगा ये जोरदार झटका
रमन सिंह, अमित शाह और रामदयाल उइके

सूत्रों की माने तो अमित शाह छत्तीसगढ़ के दो दिन के आए हुए हैं. अपने इस दौरे के चलते उन्होंने शुक्रवार 12 अक्टूबर को अंबिकापुर और बिलासपुर में बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं को संबोधित किया. वहीं शनिवार 13 अक्टूबर को जगदलपुर और रायपुर में सभाएं कर रहे हैं.

यह भी पढ़े : कांग्रेस को उच्चतम न्यायालय का जोरदार झटका!

सूत्रों की माने तो अमित शाह ने शनिवार की सुबह ‘अमित शाह’ बिलासपुर के एक होटल में एक गुप्त बैठक की है. जिसके बाद भाजपा की ओर से आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में शाह और रमन सिंह की मौजूदगी में रामदयाल उइके ने भाजपा की सदस्यता दिलाई.

अमित शाह से दौरे से छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को लगा ये जोरदार झटका

रामदयाल उइके का राजनीतिक जीवन

सूत्रों की माने तो ‘रामदयाल उइके’ 4 बार विधयाक रहे है. अजीत जोगी ने उन्हें भाजपा से कांग्रेस में शामिल कराया था. उइके ने साल 2000 में ‘अजीत जोगी’ के लिए मरवाही सीट छोड़ दी थी. अब उइके के एक बार फिर से भाजपा में शामिल होने के बाद ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि वे फिर से मरवाही से भाजपा की टिकट पर चुनाव लड़ सकते हैं.

अमित शाह से दौरे से छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को लगा ये जोरदार झटका
रामदयाल उइके

ध्यान देने वाली बात यह है कि साल 2000 में जब उइके भाजपा को छोड़ कांग्रेस में शामिल हुए थे तब उनके साथ 12 विधायक भी कांग्रेस से जुड़ गए थे. अब 18 साल बाद रामदयाल उइके फिर भाजपा में शामिल हो गए हैं. रामदयाल उइके कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष रहते भाजपा में शामिल होने वाले राज्य के पहले नेता हैं.