पटना उच्च न्यायालय के इस फैसले के बाद लालूप्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी की उड़ी नींद! ये है बड़ी वजह…

0
20
पटना उच्च न्यायालय के इस फैसले के बाद लालूप्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी की उड़ी नींद! ये है बड़ी वजह...

After the decision of the Patna High Court, Lalu Prasad Yadav’s son Tejasvi problems grew (पटना) : अभी-अभी बिहार से ‘राष्ट्रीय जनता दल’ (राजद) नेता ‘तेजस्वी यादव’ को लेकर एक बड़ी खबर आई है. जिसके बाद राजद नेता यादव की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. सूत्रों की माने तो पटना उच्च न्यायालय ने तेजस्वी यादव की उस याचिका को खारिज कर दिया है, उन्होंने इस याचिका में बंगले को खाली करने के ‘बिहार सरकार’ के आदेश को चुनौती दी थी.

पटना उच्च न्यायालय के इस फैसले के बाद लालूप्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी की उड़ी नींद! ये है बड़ी वजह...
तेजस्वी यादव

सूत्रों की माने तो तेजस्वी यादव को यह बंगला उस समय मिला था जब वह राज्य के उप मुख्यमंत्री बने थे. लेकिन वह अपने पद से हटने के बाद भी इस बंगले में रह रहे थे. ‘पटना उच्च न्यायालय’ द्वारा याचिका ख़ारिज करने के बाद अब उनको यह बंगला खाली करना पड़ेगा.

ध्यान देने वाली बात यह है कि इससे पहले 5 दिसंबर को तेजस्वी यादव का बंगला खाली कराने के लिए कई सरकारी अधिकारी उनके निवास स्थान गए थे. लेकिन उस समय वह नई दिल्ली में थे. आपको बता दें कि यह मामला ‘बिहार विधानसभा’ में भी विवाद का मुद्दा बन गया है. 

पटना उच्च न्यायालय के इस फैसले के बाद लालूप्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी की उड़ी नींद! ये है बड़ी वजह...
पटना उच्च न्यायालय

जानकारी के अनुसार तेजस्वी यादव का यह बंगला पटना के देशरत्न मार्ग पर स्थित है. उनके इस बंगले को खाली कराने के लिए जिला प्रशासन के अधिकारी पहुंचे थे. ‘बिहार सरकार’ के आवास विभाग ने जिला प्रशासन को इस मामले में नोटिस जारी किया था. हैरानी कि बात यह भी है कि बंगला खाली कराने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल भी गया था. इन लोगों में भवन निर्माण के अधिकारी भी शामिल थे.

यह भी पढ़े : नीतीश कुमार को तेजस्वी यादव ने दे डाली भयंकर चेतावनी!

पटना उच्च न्यायालय के इस फैसले के बाद लालूप्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी की उड़ी नींद! ये है बड़ी वजह...
नितीश कुमार

सूत्रों की माने तो तेजस्वी यादव इसे लेकर पहले ही अपने बंगले के बाहर पोस्टर लगा चुके हैं. तेजस्वी को पहले भी कई बार बंगला खाली करने को आदेश दिया जा चुका है. दूसरी तरफ वह इस मामले में राज्य सरकार पर आरोप लगाते रहे हैं.