भारतीय सेना के किया ये शानदार कमाल! मुठभेड़ में कई आतंकियों को पहुंचाया 72 हुर्रो के पास

0
32
भारतीय सेना के किया ये शानदार कमाल! मुठभेड़ में अब तक कई आतंकी को पहुंचाया 72 हुर्रो के पास

Theseamazing done by the Indian Army! Many militants in the encounter were brought to 72 Huro (पुलवामा) : अभी-अभी ‘जम्मू-कश्मीर’ के ‘पुलवामा’ से एक बड़ी खबर आई है. जिसके बाद आतंकियों में हलचल पैदा हो गई है. सूत्रों की माने तो गुरुवार 29 नवंबर की तड़के ‘भारतीय सेना’ और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई है. जिसमें सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया है. सूचना यह भी है कि मुठभेड़ अभी भी जारी है.

भारतीय सेना के किया ये शानदार कमाल! मुठभेड़ में अब तक कई आतंकी को पहुंचाया 72 हुर्रो के पास
भारतीय सेना

यह मुठभेड़ पुलवामा के अवंतीपुरा इलाके में हुई. सुरक्षा एजेंसियों को यहां पर आतंकी छिपे होने की सूचना मिली प्राप्त हुई थी. सूचना के आधार पर सुरक्षाबलों ने ऑपरेशन शुरू किया था. अब तक सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को ढेर कर दिया है. जो आतंकी इस मुठभेड़ में मारे गए उनकी पहचान ‘अब्दान अहमद लोन’ और ‘आदिल बिलाल भट्ट’ के रूप में हुई है. ये दोनों आतंकी ‘हिजबुल मुजाहिदीन’ के थे. इस दोनों आतंकियों के पास से हथियार और गोला-बारूद भी बरामद भी हुए हैं.

यह भी पढ़े : भारतीय सेना के विकराल रूप से आतंकियों में मची खलबली!

भारतीय सेना के किया ये शानदार कमाल! मुठभेड़ में अब तक कई आतंकी को पहुंचाया 72 हुर्रो के पास
आतंकवादी

इसके अलावा आपको इस बात से भी अवगत करा दें कि बुधवार को तड़के शुरू हुए ऑपरेशन में पत्रकार ‘शुजात बुखारी’ की हत्या में वांटेड ‘लश्कर-ए-तैयबा’ कमांडर आतंकी ‘नवीद जट’ को सेना को मौत के घाट उतार दिया था. बड़गाम जिले के छत्रगाम के कुठपोरा गांव में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ में बुधवार 28 नवंबर को जट के साथ एक और आतंकी ढेर किया था. 

सूत्रों की माने तो एक अन्य आतंकी को पत्थरबाज के मदद से बचकर भाग निकला. आपको याद दिला दें कि पत्रकार ‘शुजात बुखारी’ और सुरक्षाबलों पर हुए कई हमलों में आतंकी ‘नवीद जट’ शामिल था.

भारतीय सेना के किया ये शानदार कमाल! मुठभेड़ में अब तक कई आतंकी को पहुंचाया 72 हुर्रो के पास
शुजात बुखारी और आतंकी नवीद जट

इसके अलावा आपको यह भी याद दिला दें कि 9 महीने पहले आतंकियों ने आतंकी नवीद को उस समय छुड़ा लिया था जब उसको जेल विभाग अस्पताल में चेकअप कराने के लिए ले जाया रहा था. उस हमले में दो पुलिस कर्मी भी शहीद हुए थे.