अमृतसर रेल हादसे का चौंकाने वाला सच आया सामने! जांच के बाद नवजोत सिंह सिद्धू समेत…

0
23
अमृतसर रेल हादसे का चौंकाने वाला सच आया सामने! जांच के बाद नवजोत सिंह सिद्धू समेत...

The shocking truth of the Amritsar rail accident came in front! After investigation, including Navjot Singh Sidhu (चंडीगढ़) : करीब 2 महीने पहले ‘पंजाब’ के ‘अमृतसर’ में ‘दशहरा’ के मौके पर भयंकर ‘रेल हादसा’ हुआ था. इस हादसे में लगभग 62 लोगों की मौत हो गई थी. इस हादसे को लेकर एक चौंका देने वाला सच सामने आया है. जिसके बाद कांग्रेसी नेता नवजोत सिंह सिद्धू की मुश्किलें बढ़ने वाली है.

अमृतसर रेल हादसे का चौंकाने वाला सच आया सामने! जांच के बाद नवजोत सिंह सिद्धू समेत...

सूत्रों की माने तो पंजाब के गृह विभाग ने अमृतसर रेल हादसे से संबंधित जालंधर डिविजनल कमिश्नर ‘बी. पुरुषार्था’ की रिपोर्ट मुख्यमंत्री ‘अमरिंदर सिंह’ को सौंप दी है. रिपोर्ट में रेलवे और पुलिस सहित कई अन्‍य को हादसे के लिए जिम्‍मेदार ठहराया गया है. सौंपी गई इस रिपोर्ट में कैबिनेट मंत्री ‘नवजोत सिंह सिद्धू’ की पत्नी ‘डॉ. नवजोत कौर सिद्धूृ’ को क्लीन चिट दी गई है. आपको याद दिला दें कि वह दशहरा कार्यक्रम में मुख्य अतिथि थीं.

मिट्ठू मदान और नगर निगम को दशहरा कार्यक्रम का बताया जिम्‍मेदार

ध्यान देने वाली बात यह है कि दशहरा कार्यक्रम के आयोजक ‘मिट्ठू मदान’ समेत जिला पुलिस प्रशासन, नगर निगम, रेलवे फाटक के प्रभारी आदि को दोषी ठहराते हुए जांच अधिकारी ने उनके खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है. आपको बता दें कि रिपोर्ट अभी अधिकारिक तौर पर जारी नहीं की गई है.

अमृतसर रेल हादसे का चौंकाने वाला सच आया सामने! जांच के बाद नवजोत सिंह सिद्धू समेत...

इस घटना में किसकी क्या गलती

पुलिस- अमृतसर में चूंकि कमिश्नरेट सिस्टम है, इसलिए उस जगह पर किसी भी कार्यक्रम करने के लिए पुलिस से अनुमति लेनी होती है, परन्तु किसी किसी भी अधिकारी ने मंजूरी देने से पहले आयोजन स्थल पर जाकर यह देखने की कोशिश नहीं की. कि ज्यादा भीड़ होने पर सुरक्षा के लिए कितने लोगों को कहां-कहां लगाना है.

यह भी पढ़े – अमृतसर रेल हादसा : दशहरा उत्सव देखने गए लोगों के परिवार में आया भूचाल!

आयोजक- कार्यक्रम के दौरान अपनी जिम्मेदारी ठीक से नहीं निभाई. 

नगर निगम- निगम प्रशासन ने अनुमति देने से पहले कार्यक्रम स्थल का दौरा नहीं किया.

अमृतसर रेल हादसे का चौंकाने वाला सच आया सामने! जांच के बाद नवजोत सिंह सिद्धू समेत...

रेलवे- फाटक कर्मचारी इस बात को भलीभांति जानता था कि रेल लाइन पर सैकड़ों की संख्या में लोग खड़े हैं. गाड़ी को धीमी गति से गुजारने के लिए उसने किसी तरह का कोई सिग्नल नहीं दिया, जबकि उससे पहले निकली गाड़ी काफी धीमी गति से गई. आवासीय क्षेत्र से गाड़ी को धीमी गति से निकलना चाहिए था.