महाभारत के युद्ध में मारे गए अरबों योद्धाओं के शवों का आखिर क्या हुआ? ये है पूरी सच्चाई…

0
5013

29 मई, 2018 : महाभारत के बारे में तो आप अच्छी तरह जानते ही होंगे. यह कथा जितनी अनोखी है उतनी ही विचित्र है. परंतु आज हम आपको ‘महाभारत’ युद्ध के खत्म होने के बाद की कहानी बताने जा रहे हैं. इस बात को तो सभी जानते हैं कि ‘कौरव’ और ‘पांडवों’ में जब युद्ध हुआ तो इसमें करोड़ों योद्धा मारे गए, परंतु मरने के उन योद्धाओं का क्या हुआ, इस बात की जानकारी बहुत ही कम लोगों को है. आइए इसके आगे की कहानी जानते हैं…

महाभारत के युद्ध में मारे गए अरबों योद्धाओं के शवों का आखिर क्या हुआ? ये है पूरी सच्चाई...
महाभारत युद्ध

युद्ध के खत्म होने के बाद यह हुआ 

जानकारी के अनुसार यह युद्ध जब पांडवों ने जीत लिया था तो सभी पांडव ‘श्रीकृष्ण’ के साथ ‘धृतराष्ट्र’ और ‘गांधारी’ से मुलाकात करने के लिए गए. यहां ‘धृतराष्ट्र’ ने ‘भीम’ को मारने की कोशिश की, परंतु ‘श्रीकृष्ण’ की सूझ-बुझ से उनकी जान बच गई. इसके बाद ‘पांडव’ ‘गांधारी’ से मिले, वह भी पांडवों को लेकर बहुत ही गुस्सा थी, परंतु कुछ ही समय में उनका गुस्सा शांत हो गया. इसके बाद ‘महर्षि वेदव्यास’ के कहने पर ‘युधिष्ठिर’ सभी को साथ लेकर ‘कुरुक्षेत्र’ गए. वहां पहुंचकर ‘धृतराष्ट्र’ ने ‘युधिष्ठिर’ से युद्ध में मारे गए योद्धाओं की संख्या के बारे में सवाल किया तो उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि युद्ध में 1 अरब, 66 करोड़, 20 हजार योद्धा मारे गए हैं. साथ ही 24 हजार 165 योद्धाओं की कोई सूचना नहीं है.

महाभारत के युद्ध में मारे गए अरबों योद्धाओं के शवों का आखिर क्या हुआ? ये है पूरी सच्चाई...
महाभारत युद्ध

सभी योद्धाओं का युधिष्ठिर ने कराया दाह संस्कार

महाभारत युद्ध में जो भी योद्धा मारे गए थे उनके बारे में जानकर ‘धृतराष्ट्र’ ने ‘युधिष्ठिर’ से सभी का अंतिम संस्कार करने की बात कही. युधिष्ठिर ने कौरवों के पुरोहित सुधर्मा और अपने पुरोहित धौम्य को तथा संजय, विदुर, युयुत्यु आदि लोगों को युद्ध में मारे गए सभी योद्धाओं का शास्त्रोत अंतिम संस्कार करने की अनुमति दे दी. इसके बाद सभी गंगा के किनारे गए और मारे गए सभी योद्धाओं का दांह संस्कार किया.