चीन के महत्वाकांक्षी प्लान 2025 को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने चली ये बड़ी चाल, जिसे देख घबरा उठा चीन

0
111
चीन के महत्वाकांक्षी प्लान 2025 को अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने चली बड़ी चाल, जिसे देख घबरा उठा चीन

वाशिंगटन : अभी-अभी ‘चीन’ के महत्वाकांक्षी ‘प्लान 2025’ को लेकर ‘अमेरिका’ से एक हैरान कर देने वाला बयान आया है. जिसके बाद अमेरिका और चीन के बीच गतिरोध बढ़ सकता है. सूत्रों से जानकारी के अनुसार चीन के प्लान 2025 को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति ‘डोनाल्ड ट्रंप’ अपनी चाल चल सकते हैं .

चीन के महत्वाकांक्षी प्लान 2025 को अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने चली बड़ी चाल, जिसे देख घबरा उठा चीन
डोनाल्ड ट्रंप

खबर मिली है कि ट्रंप के इस कदम से विश्व की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच व्यापार युद्ध और बढ़ सकता है. वर्तमान में अमेरिका की टेक्नॉलजी इंडस्ट्री में तेजी से बढ़ता चीनी निवेश पर राष्ट्रपति ट्रंप नजर रखे हुए हैं. हालांकि ऐसा बताया जा रहा है कि बहुत जल्द डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका की टेक्नॉलजी कंपनियों में चीनी निवेश के खिलाफ कठोर निर्णय ले सकते हैं. जिसके द्वारा ट्रंप चीन की महत्वाकांक्षी योजना को झटका दे सकते हैं.

चीन के महत्वाकांक्षी प्लान 2025 को अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने चली बड़ी चाल, जिसे देख घबरा उठा चीन
शी जिनपिंग

सूत्रों के अनुसार खबर मिली है कि ट्रंप कई चीनी कंपनियों को लेकर अमेरिकी प्रौद्योगिकी कंपनियों में निवेश को बंद करना चाहते हैं. इसके अलावा उनका इरादा चीन को अतिरिक्त प्रौद्योगिकी का निर्यात भी प्रतिबंधित करने का है।

प्तार्प्त जानकारी के अनुसार इस प्रकार की दोहरी पहल का ऐलान इस सप्ताह के अंत तक किया जा सकता है. जिसका लक्ष्य चीन की ‘मेड इन चाइना 2025’ रिपोर्ट के तहत प्रौद्योगिकी के दस व्यापक क्षेत्रों में वैश्विक नेता बनने के प्रयास को रोकना है. जिसमें सूचना प्रौद्योगिकी, वैमानिकी, इलेक्ट्रिक वाहन तथा जैव प्रौद्योगिकी क्षेत्र शामिल हैं.

चीन के महत्वाकांक्षी प्लान 2025 को अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने चली बड़ी चाल, जिसे देख घबरा उठा चीन

ध्यान देने वाली बात यह है कि यह भी अमेरिका का यह कदम भी चीन के 50 अरब डॉलर मूल्य के सामान पर शुल्क लगाने के जैसा ही होगा. इसको लेकर अमेरिका ने कहा है कि चीन के अनुचित व्यापार व्यवहार को रोकने के लिए यह कदम उठाया गया है. अमेरिका के शुल्कों का जवाब भी चीन ने उसी की भाषा में दिया है. सूत्रों के अनुसार चीन द्वारा लगाया गया शुल्क छह जुलाई से लागू होने वाला है.